Dussehra Par Nibandh Hindi Mein | दशहरा पर निबंध 100 words /200 शब्दों में /10 लाइन

0

दशहरा पर निबंध 100 words | दशहरा पर निबंध 200 शब्दों में | दशहरा पर निबंध 10 लाइन | दशहरा पर निबंध in English | दशहरा पर निबंध 150 words | दशहरा पर निबंध for Class 7 | दशहरा पर निबंध 500 Words | दशहरा पर निबंध 250 words

नमस्कार दोस्तों, आज का या आर्टिकल दशहरा के निबंध पर आधारित है इस आर्टिकल में आप दशहरा से संबंधित सभी तथ्यों को पढ़ सकते हैं हमने इसमें लगभग सभी जरूरी तथ्यों को एक जगह लिखने का प्रयास किया है तो चलिए पढ़ें विस्तार से।

Follow Us

Join Youtube ChannelClick Here
Join Telegram GroupClick Here
Join on FacebookClick Here
Follow on TwitterClick Here

दशहरा पर निबंध (Dussehra Par Nibandh Hindi Mein) क्या आप जानते है दशहरा हिंदुओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है। दशहरा बुराई पर अच्छाई की विजय का महत्वपूर्ण पर्व है। जिसे विजयदशमी, बिजौया और आयुध पूजा के नाम से भी जाना जाता है। दशहरा राक्षस रावण पर भगवान राम की विजय को याद करता है। इसलिए यह बुराई पर अच्छाई का प्रतीक है और हम लोग दशहरे को धूमधाम से मनाते हैं।

दशहरा अश्विनी शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है जिसे दशहरा या विजयदशमी के नाम से जानते हैं। इस माह में ठण्ड का हल्का-सा आगमन हो जाता है। दशहरा से पहले नौ दिन नवरात्रि मनाई जाती है और नवरात्रि के दसवें दिन दशहरा होता है। दशहरा प्रायः अक्टूबर के महीने में पड़ता है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi)

Dussehra Par Nibandh Hindi Mein
लेख का नामदशहरा पर निबंध
पर्व दशहरा
वर्ष2022
दशहरा कब है05 अक्टूबर 2022 (बुधवार)
वेबसाइट होमपेजयहाँ क्लिक करें

दशहरा पर निबंध 150 words

दशहरा यानी कि विजयादशमी अपने देश का एक महत्वपूर्ण दिन, दशहरा को हम लोग आयुध-पूजा के नाम से भी जानते हैं। दशहरा प्रतिवर्ष हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आश्विन माह की दसवीं को बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। विजयादशमी के दिन स्कूल-कॉलेजों में अवकाश रहता है। स्कूलों में बच्चों को दशहरा पर निबंध लिखने को दिया जाता है।

दशहरे को हम बुराई पर अच्छाई के जीत के दिन के रूप में मानते हैं। तमाम लोग इस दिन एक-दूसरे को सन्देश भेज कर बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए बधाई देते हैं। आज के अपने इस लेख में हम पढ़ेंगे कि इस वर्ष 2022 में दशहरा कब है, दशहरा कितनी तारीख को है, दशहरा का महत्व क्या है, क्यों मनाया जाता है दशहरा, दशहरा पर कविता, दशहरा पर कोट्स आदि जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

दशहरा पर निबंध (Dussehra Par Nibandh Hindi Mein)

छात्र इस आर्टिकल को पढ़कर स्कूलों में विजयदशमी/दशहरा पर निबंध हिंदी में (Essay In Hindi On Dussehra) आसानी से लिख सकते हैं। अगर आप दशहरा के बारे में जानना चाहते हैं, तो parikshapoint.com आपके लिए Dussehra Par Nibandh लेकर आया है। इस पोस्ट से आप Hindi Essay On Dussehra पढ़ सकते हैं।

आप हमारे इस पेज पर दिए Dussehra Nibandh In Hindi पढ़कर जान सकते हैं कि दशहरा क्यों मनाया जाता है? हमनें Dussehra Par Nibandh In Hindi एकदम सरल, सहज और स्पष्ट भाषा में लिखा है, ताकि हर वर्ग के लोग हमारे इस Dussehra In Hindi Essay को आसानी से समझ सकें।

स्कूलों में छात्रों को अक्सर दशहरा पर्व (Dussehra Festival) के अवसर पर निबंध प्रतियोगिता में Dussehra Ka Nibandh लिखने के लिए दिया जाता है, जिसमें वह About Dussehra In Hindi में लिखते हैं। आप हमारे इस पेज पर दिए गए Nibandh On Dussehra In Hindi को पढ़कर Dussehra In Hindi के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और एक बेहतर Dussehra Par Nibandh Hindi Mein लिखकर दिखा सकते हैं। इस पेज से आप हिंदी में दशहरा पर निबंध के साथ-साथ दशहरा पर निबंध हिंदी में 10 लाइन, दशहरा पर निबंध 300 Words और दशहरा पर निबंध 500 Words भी नीचे से पढ़ सकते हैं।

दशहरा पर निबंध 200 शब्दों में

दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, जो हमें ये संदेश देता है कि बुराई कितनी भी बड़ी और ताकतवर क्यों न हो, मगर अच्छाई के सामने वह बहुत छोटी और कमजोर है। देर से ही सही किंतु एक-न-एक दिन बुराई को हार का सामना करना पड़ता है। बुराई कुछ समय के लिए अच्छाई को दबा जरूर सकती है लेकिन उसे कभी हरा नहीं सकती। सच और अच्छाई की जीत निश्चित है, उसे कोई नहीं रोक सकता। जिस प्रकार भगवान राम ने रावण का वध करके बुराई का अंत किया था, उसी प्रकार हमें भी अपने अंदर की बुराई को खत्म करना होगा।

दशहरा कब और क्यों मनाया जाता है?

दशहरा या विजयादशमी हिंदू धर्म के लोगों का मुख्य त्यौहार है। ये हर साल आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। दशहरा इसलिए मनाया जाता है क्योंकि भगवान श्री राम ने नौ दिनों के युद्ध के बाद दानव राजा रावण का वध करके उसकी कैद से अपनी पत्नी देवी सीता को मुक्त कराया था। इसके अलावा इस दिन देवी दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का भी वध किया था। तब से ये दिन विजयदाश्मी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन लोग माँ दुर्गा और भगवान राम की पूजा करते हैं और प्रार्थना करके आशीर्वाद मांगते हैं। ऐसा भी माना जाता है कि भगवान श्री राम ने भी देवी दुर्गा की शक्ति के लिए प्रार्थना की थी।

यह भी पढ़े >> 1500+ Daily Use English Words With Hindi Meaning [Most Important Word Meanings for Daily Life]

दशहरा पर निबंध 100 words

हिंदू मान्यता और पौराणिक कथाओं में दशहरा मनाने के पीछे मुख्य दो कथाएं सुनने को मिलती हैं। पहली कथा के अनुसार त्रेता युग में भगवान श्रीराम और लंकापति रावण के बीच लगातार दस दिनों तक भीषण युद्ध चला था, जिसके दसवें दिन यानी कि दशहरा को भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। रावण ने प्रभु श्रीराम की पत्नी सीता का धोके से अपहरण कर उन्हें अपनी लंका में कैद कर लिया था।

देवी सीता को रावण की कैद से मुक्त कराने के लिए भगवान राम को युद्ध करना पड़ा। ये युद्ध दस दिन तक चला और दसवें दिन भगवान श्रीरामचन्द्र ने दशानन रावण का वध कर उसके अहंकार को तोड़ दिया। इस युद्ध में रावण के अंत के साथ-साथ राक्षस जाति का भी अंत हो गया था। दूसरी कथा के अनुसार, मां दुर्गा ने महिषासुर नामक दानव के साथ दस दिनों तक भीषण संग्राम किया था और आश्विन माह शुक्ल पक्ष की दशमी को उसका वध कर दिया। तभी से इसी कारण इस दिन को हर साल विजयादशमी या दशहरा के रूप में मनाया जाने लगा। इन दोनों ही घटनाओं का संबंध बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाता है।

दशहरा का महत्त्व

दशहरा (विजयादशमी) पर्व हम सभी के जीवन में बहुत महत्त्व रखता है। ये दिन हमारेे लिए अपने अंदर की सभी बुराइयों को ख़त्म करके एक नये जीवन की शुरुआत करने का होता है। ये पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत की ख़ुशी में मनाया जाने वाला पर्व है। दशहरा सच्चाई की जीत की खुशी के जश्न के रूप में मनाया जाने वाला त्यौहार है। इस जश्न के साथ सबकी अपनी-अपनी मान्यता और आस्था जुड़ी हई है।

जैसे- किसानों के लिए ये फसल को घर लाने का जश्न है, बच्चों के लिए ये राम द्वारा रावण के वध का जश्न है और बड़ों के लिए ये बुराई पर अच्छाई का जश्न है। इस पर्व को हिंदू धर्म के लोग बहुत ही शुभ और पवित्र मानते हैं, क्योंकि दशहरे से पहले नौ दिनों तक नवरात्रि का त्यौहार चलता है। नवरात्रि में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूचा-अर्चना की जाती है। लोगों में ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन शुरू किया गया कोई भी नया कार्य शुभ और सफल होता है।

यह भी पढ़े >> 3000+ Daily Use English Words With Hindi Meaning With PDF Download 2023 [Latest 30+ Sets Free]

निष्कर्ष

दशहरा असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक है। यह बुराई पर अच्छाई की विजय का उत्सव है, जो हर साल हमें सीखाता और याद दिलाता है कि कैसे हमें अपने अंदर की बुराई को मार कर दुनिया में अच्छाई को ज़िदा रखना है। इसी वजह से हर साल दशहरा मनाया जाता है। हर साल दशहरा लोगों को सत्य, धर्म और अच्छाई का संदेश देकर जाता है। वह बताकर जाता है कि सत्य की राह पर चलने में शुरू में कठिनाइयां और मुश्किलें आएंगी, लेकिन अंत में जीत उसकी ही होगी।

दशहरे के बारे में कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य

  • ऐसी मान्यता है कि अगर मर्यादा पुरुषौत्त्म भगवान श्री रामचन्द्र जी ने रावण का वध नहीं किया होता, तो हमेशा के लिए सूर्यास्त हो जाता।
  • दशहरा का एक महत्त्व ये भी है कि कि माँ दुर्गा ने आश्विन माह के शुक्ल पक्ष के दसवें दिन महिषासुर राक्षस का वध किया था।
  • महिषासुर असुरों को राजा था, जो लोगों पर अत्याचार करता था। उसके अत्याचारों को देखकर भगवान ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश ने शक्ति (माँ दुर्गा) का निर्माण किया। माँ दुर्गा ने प्रकट होकर महिषासुर से दस दिनों तक युद्ध किया और दसवें दिन देवी दुर्गा ने उस राक्षस का वध कर बुराई का अंत कर दिया।
  • ये भी माना जाता है कि नवरात्रि में देवी माँ अपने मायके आती हैं और नवरात्र के दसवें दिन यानी कि दशहरे पर उनकी प्रतिमा को बहते जल में विसर्जित करके उन्हें खुशी-खुशी विदा किया जाता है।
  • दूसरी मान्यता ये भी है कि भगवान श्री राम ने रावण के दसों सिर यानी दस बुराइयों को ख़त्म किया था, जिसमें पाप, काम, क्रोध, मोह, लोभ, घमंड, स्वार्थ, जलन, अहंकार, अमानवता और अन्‍याय के रूप शामिल थे।
  • लोग ऐसा भी मानते हैं कि मैसूर के राजा ने 17वीं शताब्दी में मैसूर में दशहरा मनाया था।
  • दशहरा सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि बांग्लादेश, नेपाल और मलेशिया में भी मनाया जाता है। मलेशिया में इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है।
  • दशहरा का महत्त्व भगवान राम और माता दुर्गा दोनों की बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाता है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi)

दशहरा पर्व पर हर तरफ खुशनुमा माहौल होता है। लोगों के घर और मंदिर जगमगाती रोशनी और फूलों से सज जाते हैं। दशहरे पर बहुत सी जगहों पर रामलीला का मंचन किया जाता है और मेले भी लगाए जाते हैं। मेलों में तरह-तरह के झूले, खेल-खिलौनों की दुकाने, खाने-पीने के स्टॉल बच्चों के आकर्षण का केन्द्र होते हैं। मेलों में घूमने, झूलों पर बैठने, खिलौने खरीदने और खाने-पीने के लिए बच्चे काफी उत्साहित होते हैं।

रामलीला मंचन में रामायण कथा का इतिहास और उसका सार दिखाया जाता है, जिसे सभी बड़ी ही उत्सुकता से देखते हैं। रामलीला के आखिर में भगवान राम के किरदार वाला व्यक्ति रावण, मेघनाथ और कुम्भकर्ण के कागज के पुतले में तीर मारकर दशहरे का समापन करता है। तीनों पुतलों के साथ बुराई भी पल-भर में जलकर राख हो जाती है। लोग बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश लेकर अपने-अपने घर चले जाते हैं।

दशहरा पर निबंध 10 लाइन

  • दशहरा हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार है जिसे पूरे भारतवर्ष में बहुत खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है।
  • ये त्योहार हर साल अक्टूबर के महीने में, दिवाली के त्योहार से 20 दिन पहले मनाया जाता है।
  • दशहरे का त्यौहार 10 दिनों तक मनाया जाता है।
  • पहले नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है, जिसे नवरात्र भी कहा जाता है।
  • दसवें दिन लोग रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण के पुतले जलाते हैं।
  • दशहरा को दुर्गोत्सव भी कहा जाता है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि दसवें दिन दुर्गा माँ ने भी असुर महिषासुर का वध किया था।
  • अलग-अलग स्थानों पर रामलीला का आयोजन किया जाता है, जहां लोग श्री राम के जीवन का नाट्य रूपांतरण प्रस्तुत करते हैं।
  • विजयदशमी के दिन रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण का पुतला जलाकर सत्य पर असत्य की जीत को दर्शाया जाता है।
  • इसलिए दशहरा को असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक भी कहा जाता है।
  • दशहरा का त्यौहार लोगों को सत्य, धर्म और अच्छाई सीखाकर जाता है।

Dussehra Par Nibandh Related FAQs

दशहरा क्यों मनाया जाता है 10 लाइन?

दशहरा आश्विन माह की दशमी तिथि को श्री राम जी ने रावण नाम के राक्षस का वध किया था। श्री राम जी द्वारा रावण के वध करने की ख़ुशी में दशहरा त्यौहार मनाया जाता है। दशहरा से पूर्व नौ दिन रामलीला का आयोजन पुरे भारत वर्ष में किया जाता है। रामलीला में श्री राम जी के आदर्श जीवन को दिखाया जाता है।

दशहरा त्योहार के बारे में आप क्या जानते हो निबंध लिखिए?

दशहरा (विजयादशमी व आयुध-पूजा) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन होता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी। दशहरा असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है।

दशहरा को इंग्लिश में क्यों मनाया जाता है?

बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक , दशहरा हिंदू कैलेंडर के सातवें महीने अश्विन (सितंबर-अक्टूबर) के महीने के 10 वें दिन पूर्णिमा की उपस्थिति के साथ मनाया जाता है, जिसे “उज्ज्वल पखवाड़ा” कहा जाता है।

दशहरा पर्व पर ८ से १० वाक्यों में जानकारी लिखो?

भगवान श्री राम द्वारा रावण के वध की खुशी में दशहरा का त्योहार मनाया जाता है। 2) दशहरा हर वर्ष हिंदी पंचांग के अश्विन माह की शुक्लपक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। 3) दशहरा को हम सभी विजयादशमी के नाम से भी जानते हैं। 4) इस दिन को असत्य पर सत्य की जीत के लिए याद किया जाता है।

Previous articleUttar Pradesh UP Board 10th /12th Marksheet Certificate Correction Online 2022
Next articleHow to prepare for Railway Job 2023 | रेलवे भर्ती की तैयारी कैसे करें हिंदी में
प्रिय पाठको वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है, हम जानकारी की सटीकता, मूल्य या पूर्णता की कोई गारंटी नहीं लेते हैं, और जानकारी में किसी भी त्रुटि, चूक, या अशुद्धि के लिए हम जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं होंगे। हम आधिकारिक तौर पर वेबसाइट पर उल्लिखित किसी भी ब्रांड, उत्पाद या सेवाओं से संबंधित होने का दावा नहीं करते है। वेबसाइट पर उपयोग किए गए चित्र, नाम, मीडिया या लिंक केवल संदर्भ और सूचना के उद्देश्य के लिए हैं।